Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/customer/www/todaysnews.co.in/public_html/wp-content/themes/infinity-news/inc/breadcrumbs.php on line 252

शहरों की भीड़ में खो रही खुशियों की कहानी बयां करती है 2017 में आई स्टीव कट्ट की शॉर्ट एनिमेटेड फिल्म ‘हैप्पीनेस’

0 0
Read Time:3 Minute, 15 Second


दैनिक भास्कर

Jul 11, 2020, 03:23 PM IST

काम और कामयाबी की तलाश में गांव और छोटे शहरों को छोड़कर मेट्रो सिटीज की तरफ रुख कर लेना इन दिनों आम बात हो गई है। हर व्यक्ति इन दिनों एक बड़ी भीड़ का हिस्सा बनने के लिए मजबूर है। ऐसी ही कहानी बयां करती है स्टीव कट्ट की साल 2017 में रिलीज हुई शॉर्ट फिल्म ‘हैप्पीनेस’।

स्टीव कट्ट एक एनिमेशन आर्टिस्ट हैं जो जिंदगी और सोसाइटी से जुड़ी कहानियां एनिमेशन के माध्यम से दर्शकों तक पहुंचाते हैं। साल 2017 में आई 4 मिनट 33 सेकंड की फिल्म ‘हैप्पीनेस’ चूहों की दौड़ की कहानी है जिसे इन दिनों इंसान जी रहे हैं। ये कहानी हर उस शख्स के इमोशन्स के साथ खेलती है जो हर सुबह काम और दफ्तर के लिए लाखों की भीड़ के बीच से संघर्ष करके गुजरता है। लोग भीड़ में अपनी खुशी और पहचान भी खो देते हैं। ये महज एक दिन की कहानी नहीं है। शहर की भीड़ में हर इंसान की खुशियां कहीं गुम हो चुकी हैं। हर शख्स एक मीडिओकर बनकर डिप्रेशन में जिंदगी जीने के लिए मजबूर है।

शॉर्ट फिल्म सोसाइटी और जिंदगी से जुड़े कई अहम मैसेज दे रही है। इसमें दिखाया गया है कि कैसे हर शख्स भीड़ का हिस्सा बना हुआ है। खुशियां ढूंढने के लिए कभी लोग शराब तो कभी दवाइयों का सहारा ले रहे हैं। हर कोई खुशियों के बजाय इन दिनों पैसों के पीछे भाग रहा है और इस लालच ने उन्हें एक मामुली दफ्तर में फंसा दिया है।

‘हैप्पीनेस’ फिल्म कई तरह से मेट्रो सिटीज की कहानी बयां करती हैं जहां लोगों की नींद ट्रेफिक के शोर से खुलती है। हर कोई मेट्रो, बसों, सड़कों और सबवे की एक बड़ी भीड़ का हिस्सा है। मेट्रो सिटी में ऐसे कम ही लोग हैं जो शायद बिना धक्का खाए अपने दफ्तर पहुंचते हैं। इन सब का मुख्य कारण है जनसंख्या। लोग अपने शहरों को छोड़कर बड़े शहरों में बड़े अवसर की तलाश में निकलते हैं। अगर शहरीकरण सही तरह से हो और हर शहर में लोगों को अच्छे अवसर मिलें तो शायद मेट्रो सिटीज की तरफ भागने का ट्रेंड कम हो जाए।

स्टीव कट्ट कई सालों से लगातार सोसाइटी के स्टीरिओटाइप पर बेहतरीन शॉर्ट फिल्में बनाते रहे हैं। लोगों की आंखे खोल देने वाली फिल्में बनाने के लिए स्टीव को कई अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है। 



Source link

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *