Warning: sprintf(): Too few arguments in /home/customer/www/todaysnews.co.in/public_html/wp-content/themes/infinity-news/inc/breadcrumbs.php on line 252

कहीं दूर जब दिन ढल जाए जैसे गीत लिखने वाले कवि योगेश नहीं रहे, लता मंगेशकर ने दी श्रद्धांजलि

0 0
Read Time:3 Minute, 13 Second


दैनिक भास्कर

May 29, 2020, 09:44 PM IST

इंडस्ट्री के वरिष्ठ गीतकार कवि योगेश गौर का शुक्रवार को मुंबई में निधन हो गया। वे 77 वर्ष के थे। कवि योगेश ने मुंबई के गोरेगांव स्थित घर में आखिरी सांसें लीं। उन्होंने 1971 में रिलीज हुई राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन की सुपरहिट फिल्म ‘आनंद’ में जिंदगी कैसी है पहेली हाय… और कहीं दूर जब दिन ढल जाए… जैसे गीत लिखे थे।

लीजेंड्री सिंगर लता मंगेशकर ने योगेश गौर को श्रद्धांजलि दी। उन्होंने ट्वीट किया- मुझे अभी पता चला कि दिल को छू लेने वाले गीत लिखने वाले कवि योगेश गौर जी का आज स्वर्गवास हुआ। यह सुनकर मुझे बहुत दुख हुआ। योगेशजी के लिखे हुए कई गीत मैंने गाए। वे बहुत शांत और मधुर स्वभाव के इंसान थे। मैं उनको विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करती हूं। 

डायबिटीज से जूझ रहे थे योगेश
इंडस्ट्री में योगेश गौर को योगेश कहकर बुलाया जाता था। बढ़ती उम्र और बीमारियों की वजह से उनकी मौत हुई। योगेश लंबे अरसे से डायबिटीज से जूझ रहे थे। कुछ साल पहले उनकी किडनी का भी ऑपरेशन हुआ था। उन्होंने आनंद, बातों-बातों में, रजनीगंधा, छोटी सी बात जैसी फिल्मों के लिए यादगार गीत लिखे थे। उन्होंने रिमझिम गिरे सावन और कई बार यूं ही देखा है जैसे यादगार गीत लिखे।

एक्टर-प्रोड्यूसर निखिल द्विवेदी ने ट्वीट पर राजेश खन्ना और अमिताभ बच्चन स्टारर फिल्म आनंद का गीत कहीं दूर जब दिन ढल जाए शेयर किया। निखिल ने लिखा- आप अपनी ही तरह के व्यक्ति थे। आप जिस चीज के हकदार थे, हम वो आपको कभी नहीं दे पाए। आपका हर गीत हमेशा जिंदा रहेगा। आप मेरे फेवरेट रहेंगे। 





Source link

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *